Horoscope, 17 January 2022: इन राशियों के जातक रहें सावधान, मिलेगा अशुभ परिणाम, पढ़ें अपना राशिफल, "भाजपा सीटें घोषित करने में जितना विलंब करेगी, उसकी मुश्किलें उतनी ही बढ़ेगी", 17 जनवरी को लॉन्च होगा Tata Safari का Dark Edition, कंपनी ने किया टीजर शेयर, पार्टी में दिखना चाहती है आकर्षक, तो जान लें अपना बॉडी शेप , WHO ने बताया, Omicron से बचने के लिए Immunity को ऐसे करें मज़बूत, Miss & Mrs. Banaras प्रतियोगिता में Samiksha Keshri और Vandana Singh ने जीता ख़िताब, सपा नेता ने पार्टी कार्यालय के बाहर की आत्मदाह की कोशिश, टिकट न मिलने पर था नाराज, भारत की Tasnim Mir ने रचा इतिहास, यूपी में गलन वाली ठंड, रद्द की गई कई ट्रेनें, जानें मौसम अपडेट, Lakshya Sen और Chirag-Satwik की जोड़ी इंडिया ओपन के फाइनल में,

The-emergence-of-online-food-delivery-system

ऑनलाइन खाना मंगाना हुआ महंगा, Footwear सहित Cab पर बढ़ा GST दर, देखें ख़बर

ऑनलाइन खाना मंगाना हुआ महंगा, Footwear सहित Cab पर बढ़ा GST दर, देखें ख़बर

अगर आप भी ऑनलाइन खाना मंगाते हैं तो अब आपको खाने-पीने की चीज़े ऑनलाइन मंगाने के लिए और पैसे ख़र्च करने होंगे, क्योंकि नए साल की शुरुआत, यानी 1 जनवरी सें खाने-पीने का सामान ऑनलाइन मंगाना महंगा हो गया है। 1 जनवरी 2022 सें स्विगी (Swiggy) और ज़ोमैटो (Zomato) जैसी ऑनलाइन फ़ूड ऑर्डरिंग कंपनियों को 5 प्रतिशत माल एवं सेवा कर (GST) अपने ग्राहकों से वसूल कर सरकार के पास जमा करना होगाGST के तहत पंजीकृत रेस्तरां ही अभी ग्राहकों से कर वसूलते हैं और सरकार के पास जमा कराते हैं, लेकिन अब, ऐसे फ़ूड वेंडर जो अभी माल एवं सेवा कर (GST) के दायरे से बाहर हैं, यदि वे ग्राहकों को ऑनलाइन ऑर्डर के जरिये आपूर्ति करते हैं, तो उन्हें GST देना होगा

Seven Benefits Of Using Delivery Management System For Your Restaurant - Online  Food Ordering & Delivery Software | Edeliveryapp

इसके अलावा कर अपवंचना रोकने के लिए जीएसटी कानून में संशोधन किया गया है. इसके तहत इनपुट कर क्रेडिट (ITC) अब सिर्फ़ एक बार मिलेगा। करदाता के GSTR 2B (ख़रीद रिटर्न) में ‘क्रेडिट' दर्ज होने के बाद इसे दिया जाएगा। GST नियमों के तहत, पहले 5 प्रतिशत का ‘अस्थायी' क्रेडिट दिया जाता था। 1 जनवरी, 2022 से इसकी अनुमति नहीं होगी। नए साल की शुरुआत से GST में ये बदलाव लागू हो रहे हैं-

  • शनिवार (1 जनवरी) से ऐप आधारित कैब सेवा कंपनियों, मसलन उबर (Uber) और ओला (Ola) को भी दोपहिया और तिपहिया वाहनों की बुकिंग पर 5 प्रतिशत GST वसूलना होगा

Homegrown footwear maker Metro Brands aims for Bata's shoes

  • 1 जनवरी से सभी जूते-चप्पलों (फ़ुटवियर) पर 12 प्रतिशत GST लगेगासभी दाम के फ़ुटवियर पर 12 प्रतिशत की GST दर लागू होगी

Fake food shops flourish on Swiggy, Zomato; users in distress

ईवाई इंडिया (EY India) के कर भागीदार बिपिन सपरा (Bipin Sapra) ने कहा, “इस बदलाव का करदाताओं की कार्यशील पूँजी पर तत्काल प्रभाव पड़ेगा, जो अभी तक 105 प्रतिशत के ‘क्रेडिट' का लाभ ले रहे थे। इस बदलाव से अब उद्योग के लिए भी यह ज़रूरी हो जाएगा कि वे सही और अनुपालन वाले वेंडरों से ख़रीद करें। नए साल से कर अपवंचना रोकने के उपायों के तहत जीएसटी रिफंड (GST Refund) के लिए आधार सत्यापन को भी अनिवार्य किया गया है। इसमें वह इकाइयाँ जिन्होंने कर का भुगतान नहीं किया है और पिछले महीने के लिए GSTR-3B जमा कराया है, उन्हें GSTR-1 दाख़िल करने की सुविधा नहीं होगी”

Homegrown footwear maker Metro Brands aims for Bata's shoes

अभी तक GST क़ानून के तहत यदि कंपनियाँ या इकाइयाँ पिछले 2 माह का GSTR-3B जमा कराने में विफल रहती हैं, तो उन्हें बाहरी आपूर्ति के लिए रिटर्न या GSTR-1 दाख़िल करने की अनुमति नहीं होती थी। इसके अलावा GST क़ानून में संशोधन कर GST अधिकारियों के अधिकार बढ़ाए गए हैं। GST अधिकारी बिना किसी कारण बताओ नोटिस’ के GSTR-3B के ज़रिये कम बिक्री दिखाकर कर का भुगतान करने वाली इकाइयों के परिसर में जाकर बकाया कर की वसूली कर सकते हैं। सपरा (Sapra) ने कहा की, “इस कदम से जाली बिलों पर रोक लगेगी अभी तक विक्रेता खरीदार को ऊंचे ITC का लाभ देने के लिए ऊची बिक्री दिखाते थे और कम GSTR देनदारी को GSTR-3B में बिक्री को कम कर दिखाते थे

Aetarat Ahmad

Comment As:

Comment (0)