yogi-adityanath_1584115299

कबाड़ में बिकी मरीजों की जिंदगी

कबाड़ में बिकी मरीजों की जिंदगी

योगी सरकार स्वास्थ्य व्यवस्था दुरुस्त होने का दावा करती है लेकिन लगातार प्रदेश के कई हिस्सों से बेहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोलती तस्वीरे सामने आ ही जाती है। ताज़ा मामला औरैया से सामने आया है जिसको सुनकर आपको भी होश उड़ जाएंगे। यहां 50 शैय्या सरकारी अस्पताल का सरकारी सामान बेचा कबाड़ी की दुकान में बेंचने का मामला सामने आया है जबकि सरकारी नियम के अनुसार अगर कोई भी सरकारी सामान यदि कबाड़ भी हो जाता है तो उसकी नीलामी की जाती है लेकिन यहां तो नीलामी की जगह चोरी छिपे सामान कबाड़ की दुकान पर बेंच दिया गया। कबाड़ की दुकान पर 2 लोहे की मेज , 5 स्ट्रेचर , 1 बेड समेत कई सरकारी सामान पड़े मिले जैसे ही कबाड़ी के दुकान पर सामान बेचे जाने की सूचना स्वास्थ्य विभाग को मिली उस वक्त हड़कम्प मच गया। 

दरअसल अस्पताल के किसी भी खरीद फरोख्त या नीलामी की जिम्मेदारी सीएमएस की होती है तो लाज़मी है कि 50 शैय्या बीएड के जिला अस्पताल में इस मामले पर सीएमएस डॉ प्रमोद कटियार पर भी मिलीभगत का आरोप लगाया जा रहा है वही इस पूरे मामले पर सीएमओ डॉ अर्चना श्रीवास्तव ने कहा कि इस पूरे मामले पर जांच के आदेश दिए है। 

वही इस पूरे मामले की जानकारी 50 सैय्या जिला अस्पताल के CMS प्रमोद कटियार से ली गई तो उन्होने बताया कि हमारा अस्पताल पहले सीएससी था। अब जिला अस्पताल कर दिया गया है। इसको लेकर जगह की काफी कमी है। हमारा सामान इधर-उधर बिखरा पड़ा रहता है जो टीम आती है उसके हिसाब से हमें नंबर देती जिसमें खराब सामान को हटाना पड़ता है और अगर ठीक होने लायक जो सामान होता है तो उसे ठीक करा दिया जाता है और अगर ठीक होने लायक नहीं होता तो उसे बाहर भेज दिया जाता हैं। ऐसे में अब सबसे बड़ा सवाल ये उठता है कि पूरे मामले को सीएमओ संज्ञान में आने की बात कर रही लेकिन हैरानी की बात तो ये है कि सामान बिक गया और सीएमओ को अब तक इसकी जानकारी कैसे नहीं हुई। 


Comment As:

Comment (0)