भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने के लिए तपस्वी छावनी में संत सनातन धर्म संसद, थाना प्रभारी की कार्यशैली को लेकर भाजपा नेता अपने समर्थकों के साथ धरने पर , दबंग प्रधान की दहशत से परिवार का पलायन, चार लुटेरों को पुलिस ने किया गिरफ्तार,तीन मोटरसाइकिल व चार अवैध तमंचा सहित कारतूस बरामद, ज़हर खाई हुई महिला की अस्पताल पहुँचने से पहले हुई मौत , UP Election 2022: मिशन यूपी 2022 की तैयारी में जुटी कांग्रेस, 5 दिवसीय यूपी दौरे पर प्रियंका गांधी, बनाएंगी चुनावी रणनीति, Bharatiya Kisan Union: टिकैत गुट ने किया जमकर प्रदर्शन, रोड जाम की कोशिश को प्रशासन ने किया नाकाम, वरुण गांधी की CM योगी को चिट्ठी, गन्ने का समर्थन मूल्य 400 रुपए करने की मांग, World Tourism Day 2021: फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर करे वर्ल्ड टूरिज्म डे पर ये फोटोज, मैसेज, Sanyukta Kisan Morcha: संयुक्त किसान मोर्चा के 30 कार्यकर्ता हुए गिरफ्तार,

pf-account

दिवाली से पहले 6 करोड़ से अधिक लोगों के खाते में आएंगे पैसे, EPFO जारी कर सकता है ब्याज की रकम

दिवाली से पहले 6 करोड़ से अधिक लोगों के खाते में आएंगे पैसे, EPFO जारी कर सकता है ब्याज की रकम

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) दिवाली से पहले अपने 6 करोड़ से अधिक सदस्यों को खुश होने का मौका दे सकता है। ईपीएफओ वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए ब्याज दर दिवाली से पहले जारी कर सकता है। नाम न बताने के शर्त पर अधिकारियों ने बताया यह सरकारी कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को उनके महंगाई भत्ते और महंगाई राहत वृद्धि के साथ मिल जाएगा। 

लाइव मिंट की खबर के मुताबिक इनमें से एक अधिकारी ने कहा कि ईपीएफओ के केंद्रीय बोर्ड ने ब्याज में बढ़ोतरी को मंजूरी दे दी है और रिटायरमेंट फंड मैनेजर ने वित्त मंत्रालय की मंजूरी मांगी है और जल्द ही इसे मंजूरी मिलने की उम्मीद है। हालांकि कुछ लोगों का तर्क है कि वित्त मंत्रालय की मंजूरी सिर्फ प्रोटोकॉल का मामला है, ईपीएफओ इसकी मंजूरी के बिना ब्याज दर को क्रेडिट नहीं कर सकता है।  दूसरे अधिकारी ने कहा, “पिछले डेढ़ साल वेतनभोगी वर्ग सहित मजदूर वर्ग के लिए कठिन रहे। अब दिवाली तक अपेक्षित भुगतान से उनका मूड खुश हो जाएगा।"

7 साल में सबसे कम ब्याज दर

बोर्ड ने वित्त वर्ष 2021 के लिए 8.5% भुगतान की सिफारिश की थी। जब ब्याज के बारे में निर्णय किए गए, तो सभी कारकों को ध्यान में रखा गया।  ईपीएफओ ने पिछले वित्त वर्ष में लगभग 70,300 करोड़ रुपये की इनकम का अनुमान लगाया है, जिसमें उसके इक्विटी निवेश के एक हिस्से को बेचने से लगभग 4,000 करोड़ रुपए शामिल हैं। 2020 में कोविड-19 के प्रकोप के बाद ईपीएफओ ने मार्च 2020 में पीएफ ब्याज दर को घटाकर 8.5 फीसद कर दिया था, जो पिछले 7 वर्षों में यह सबसे कम है। बता दें वित्त वर्ष 2018-19 में ब्याज दर 8.65 फीसद था, हालांकि वित्त वर्ष 2017-18 में यह महज 8.55 फीसद ही था, जबकि वित्त वर्ष 2019-20 के लिए यह 8.5 फीसद है।


Comment As:

Comment (0)