राजा भईया भी होंगे सपा में शामिल ? संकेत मिलें, News: महाराष्ट्र में 22 अक्टूबर से फिर से खुलेंगे सिनेमाघर, आने वाले रिलीज के लिए गाइडलाइन, Corona News: 100 करोड़ पार हुआ वैक्सीनेशन का आकड़ा, जानिए क्या बोले PM Modi , Delhi Crimes: रिजेक्शन ना झेल पाया युवक, युवती की चाकू घोप कर हत्या  , Uttarakhand News: गृह मंत्री अमित शाह ने किया प्रभावित इलाको में हवाई सर्वे, अधिकारियो से भी की मीटिंग , Bigg Boss 15: करन कुंद्रा ने टास्क के दौरान प्रतिक सहजपाल को दिया chokeslams, जानिए इस कि क्या थी वजह , Drugs Case: क्यों पहुंची NCB अनन्या पांडेय के घर, जारी किया समन, आज मनायी जाती है आज़ाद हिन्द फ़ौज की सालगिरह, जानिए क्यों बनी ये पार्टी  , Himachal Pradesh: किन्नौर जिले में 17 ट्रेकर्स लापता, पुलिस का कहना है कि तलाशी अभियान जारी, IMF का चीफ इकोनॉमिस्ट पद छोड़ेंगी गीता गोपीनाथ,

pf-account

दिवाली से पहले 6 करोड़ से अधिक लोगों के खाते में आएंगे पैसे, EPFO जारी कर सकता है ब्याज की रकम

दिवाली से पहले 6 करोड़ से अधिक लोगों के खाते में आएंगे पैसे, EPFO जारी कर सकता है ब्याज की रकम

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) दिवाली से पहले अपने 6 करोड़ से अधिक सदस्यों को खुश होने का मौका दे सकता है। ईपीएफओ वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए ब्याज दर दिवाली से पहले जारी कर सकता है। नाम न बताने के शर्त पर अधिकारियों ने बताया यह सरकारी कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को उनके महंगाई भत्ते और महंगाई राहत वृद्धि के साथ मिल जाएगा। 

लाइव मिंट की खबर के मुताबिक इनमें से एक अधिकारी ने कहा कि ईपीएफओ के केंद्रीय बोर्ड ने ब्याज में बढ़ोतरी को मंजूरी दे दी है और रिटायरमेंट फंड मैनेजर ने वित्त मंत्रालय की मंजूरी मांगी है और जल्द ही इसे मंजूरी मिलने की उम्मीद है। हालांकि कुछ लोगों का तर्क है कि वित्त मंत्रालय की मंजूरी सिर्फ प्रोटोकॉल का मामला है, ईपीएफओ इसकी मंजूरी के बिना ब्याज दर को क्रेडिट नहीं कर सकता है।  दूसरे अधिकारी ने कहा, “पिछले डेढ़ साल वेतनभोगी वर्ग सहित मजदूर वर्ग के लिए कठिन रहे। अब दिवाली तक अपेक्षित भुगतान से उनका मूड खुश हो जाएगा।"

7 साल में सबसे कम ब्याज दर

बोर्ड ने वित्त वर्ष 2021 के लिए 8.5% भुगतान की सिफारिश की थी। जब ब्याज के बारे में निर्णय किए गए, तो सभी कारकों को ध्यान में रखा गया।  ईपीएफओ ने पिछले वित्त वर्ष में लगभग 70,300 करोड़ रुपये की इनकम का अनुमान लगाया है, जिसमें उसके इक्विटी निवेश के एक हिस्से को बेचने से लगभग 4,000 करोड़ रुपए शामिल हैं। 2020 में कोविड-19 के प्रकोप के बाद ईपीएफओ ने मार्च 2020 में पीएफ ब्याज दर को घटाकर 8.5 फीसद कर दिया था, जो पिछले 7 वर्षों में यह सबसे कम है। बता दें वित्त वर्ष 2018-19 में ब्याज दर 8.65 फीसद था, हालांकि वित्त वर्ष 2017-18 में यह महज 8.55 फीसद ही था, जबकि वित्त वर्ष 2019-20 के लिए यह 8.5 फीसद है।


Comment As:

Comment (0)