भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने के लिए तपस्वी छावनी में संत सनातन धर्म संसद, थाना प्रभारी की कार्यशैली को लेकर भाजपा नेता अपने समर्थकों के साथ धरने पर , दबंग प्रधान की दहशत से परिवार का पलायन, चार लुटेरों को पुलिस ने किया गिरफ्तार,तीन मोटरसाइकिल व चार अवैध तमंचा सहित कारतूस बरामद, ज़हर खाई हुई महिला की अस्पताल पहुँचने से पहले हुई मौत , UP Election 2022: मिशन यूपी 2022 की तैयारी में जुटी कांग्रेस, 5 दिवसीय यूपी दौरे पर प्रियंका गांधी, बनाएंगी चुनावी रणनीति, Bharatiya Kisan Union: टिकैत गुट ने किया जमकर प्रदर्शन, रोड जाम की कोशिश को प्रशासन ने किया नाकाम, वरुण गांधी की CM योगी को चिट्ठी, गन्ने का समर्थन मूल्य 400 रुपए करने की मांग, World Tourism Day 2021: फेसबुक और व्हाट्सएप पर शेयर करे वर्ल्ड टूरिज्म डे पर ये फोटोज, मैसेज, Sanyukta Kisan Morcha: संयुक्त किसान मोर्चा के 30 कार्यकर्ता हुए गिरफ्तार,

Transport Aircraft

भारतीय वायुसेना को मोदी सरकार ने दिया यह खास तोहफा....

केंद्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा मामलों की समिति ने बुधवार को भारतीय वायु सेना के लिए 56 C-295 MW परिवहन विमान की खरीद को मंजूरी दे दी है। ऐसा पहली बार होने जा रहा है जब भारत में किसी निजी कंपनी की ओर से एक सैन्य विमान का निर्माण किया जाएगा।

ये मालवाहक विमान स्पेन की मेसर्स एयर बस डिफेंस एंड स्पेस कंपनी से खरीदे जाएंगे। यह कंपनी अनुबंध पर हस्ताक्षर होने के चार साल में उड़ने की हालत में तैयार 16 विमानों की आपूर्ति करेगी जबकि बाकी 40 विमान देश मे ही टाटा कंसोर्टियम द्वारा दस सालों में बनाए जाएंगे।

यह अपनी तरह का पहला प्रोजेक्ट है जिसमें देश की निजी कंपनी द्वारा सैन्य विमान बनाए जाएंगे। इन विमानों को बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कलपुर्जे भी देश की सूक्ष्म और लघु तथा मध्यम इकाइयों द्वारा बनाए जाएंगे।

विमानों के पिछले हिस्से में एक रैंप होगा जिससे छताधारी सैनिक और समान को तेजी और आसानी से उतारा जा सकता है। सरकार की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक इस परियोजना से सरकार के आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती मिलेगी और देश में रोजगार के प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष अवसर बढ़ेंगे। साथ ही रक्षा क्षेत्र में आयात पर निर्भरता में भी कमी आएगी।

ये अत्याधुनिक विमान वायुसेना के बेड़े में पुराने पड़ चुके हैं एवं मालवाहक विमानों की जगह लेंगे। पांच से 10 टन की क्षमता वाले ये विमान अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी पर आधारित होंगे तथा इनमें देश में ही विकसित इलेक्ट्रॉनिक वार फेयर प्रणाली लगाई जाएगी।

सरकार का कहना है कि इससे रक्षा क्षेत्र में स्वदेशी निमार्ण को बढ़ावा मिलेगा और उसकी मेक इन इंडिया जैसी महत्वकांक्षी योजना को भी बल मिलेगा। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि विमान उपयोग आने वाले अधिकतर पार्ट का निर्माण भारत में किया जाएगा, जो सीधे तौर पर 600 अत्यधिक कुशल रोजगार पैदा करेंगे, 3000 से अधिक अप्रत्यक्ष रोजगार और अतिरिक्त 3,000 मध्यम कौशल रोजगार के अवसर होंगे।


Comment As:

Comment (0)