Horoscope, 17 January 2022: इन राशियों के जातक रहें सावधान, मिलेगा अशुभ परिणाम, पढ़ें अपना राशिफल, "भाजपा सीटें घोषित करने में जितना विलंब करेगी, उसकी मुश्किलें उतनी ही बढ़ेगी", 17 जनवरी को लॉन्च होगा Tata Safari का Dark Edition, कंपनी ने किया टीजर शेयर, पार्टी में दिखना चाहती है आकर्षक, तो जान लें अपना बॉडी शेप , WHO ने बताया, Omicron से बचने के लिए Immunity को ऐसे करें मज़बूत, Miss & Mrs. Banaras प्रतियोगिता में Samiksha Keshri और Vandana Singh ने जीता ख़िताब, सपा नेता ने पार्टी कार्यालय के बाहर की आत्मदाह की कोशिश, टिकट न मिलने पर था नाराज, भारत की Tasnim Mir ने रचा इतिहास, यूपी में गलन वाली ठंड, रद्द की गई कई ट्रेनें, जानें मौसम अपडेट, Lakshya Sen और Chirag-Satwik की जोड़ी इंडिया ओपन के फाइनल में,

Prabhatkhabar_2021-06_d1cf8748-af40-4969-b6ba-9123f6b9a905_E4o_WZEVoAUFs9L (1)

सर्वदलीय बैठक में नहीं दिखे पीएम मोदी, शामिल हुए 42 नेता

सर्वदलीय बैठक में नहीं दिखे पीएम मोदी, शामिल हुए 42 नेता

संसद के शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) से पहले आज रविवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई गई। इस बैठक में ज्यादातर विपक्षी दलों द्वारा पेगासस जासूसी विवाद, महंगाई, किसानों के मुद्दे, न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी (MSP) को लेकर कानून बनाए जाने, बेरोजगारी, लद्दाख में चीन के अतिक्रमण सहित कुछ अन्य मुद्दों पर चर्चा किए जाने की मांग की गई। 

आपको बता दें, इस सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल नहीं हुए जबकि सरकार की ओर से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल मौजूद रहे। 

बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा के साथ वाकआउट भी हुआ। दरअसल, आम आदमी पार्टी के नेता और सांसद संजय सिंह ने यह आरोप लगाते हुए वैठक से ये कह कर वॉकआउट कर दिया कि उन्हें बोलने नहीं दिया गया। 

बैठक से पहले कयास लगाए जा रहे थे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल होंगे लेकिन बैठक के दौरान वो नजर नहीं आए। आप नेता और सांसद संजय सिंह ने कहा कि वे (सरकार) किसी भी सदस्य को सर्वदलीय बैठक के दौरान बोलने नहीं देती है। मैं संसद के इस सत्र में एमएसपी गांरटी पर कानून लाने और बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र के विस्तार का मुद्दा उठाउंगा। वे हमें सर्वदलीय बैठक और संसद में नहीं बोलने देते हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा हम उम्मीद कर रहे थे कि प्रधानमंत्री सर्वदलीय बैठक में शामिल होंगे और हमारे सात कुछ साझा करेंगे। हम कृषि कानूनों के बारे में और पूछना चाहते थे क्योंकि कुछ आशंकाएं हैं कि ये तीन कृषि कानून फिर से किसी अन्य रूप में आ सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि बैठक में कम से कम 15-20 विषयों पर चर्चा हुई। सभी पार्टियों ने केंद्र सरकार से MSP और इलेक्ट्रिक बिल पर तुरंत कार्यवाही करनी चाहिए और MSP पर कानून बनाना चाहिए।

बता दें कि अधिकांश विपक्षी दलों ने पेगासस जासूस कांड, मूल्य वृद्धि और बेरोजगारी के मुद्दे पर चर्चा की मांग की है। सरकार की ओर से कृषि कानूनों को निरस्त करने वाले विधेयक को सोमवार को सत्र के पहले दिन लोकसभा में पेश करने और पारित करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर इस बिल को सदन में पेश करेंगे।


Comment As:

Comment (0)