Horoscope, 17 January 2022: इन राशियों के जातक रहें सावधान, मिलेगा अशुभ परिणाम, पढ़ें अपना राशिफल, "भाजपा सीटें घोषित करने में जितना विलंब करेगी, उसकी मुश्किलें उतनी ही बढ़ेगी", 17 जनवरी को लॉन्च होगा Tata Safari का Dark Edition, कंपनी ने किया टीजर शेयर, पार्टी में दिखना चाहती है आकर्षक, तो जान लें अपना बॉडी शेप , WHO ने बताया, Omicron से बचने के लिए Immunity को ऐसे करें मज़बूत, Miss & Mrs. Banaras प्रतियोगिता में Samiksha Keshri और Vandana Singh ने जीता ख़िताब, सपा नेता ने पार्टी कार्यालय के बाहर की आत्मदाह की कोशिश, टिकट न मिलने पर था नाराज, भारत की Tasnim Mir ने रचा इतिहास, यूपी में गलन वाली ठंड, रद्द की गई कई ट्रेनें, जानें मौसम अपडेट, Lakshya Sen और Chirag-Satwik की जोड़ी इंडिया ओपन के फाइनल में,

1627880961_alcohol-1200x800

मंदिरों के पास शराब की दुकानों को लेकर घिरी दिल्ली सरकार!

मंदिरों के पास शराब की दुकानों को लेकर घिरी दिल्ली सरकार!

देश की राजधानी में नई आबकारी नीति को लेकर सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच ठन गई है। बीजेपी ने आप को चेतावनी दी है कि अगर नई आबकारी नीति को नहीं बदला गया तो दिल्ली में चक्का जाम कर देंगे। 

Delhi's liquor shops reopen today | Delhi news

बीजेपी ने दी चक्का जाम की चेतावनी:
दिल्ली बीजेपी की तरफ से कहा गया है कि अगर आम आदमी पार्टी की सरकार अपनी नई आबकारी नीति वापस नहीं लेती है तो बीजेपी तीन जनवरी को दिल्ली में 14 जगहों पर ‘चक्का जाम’ करेगी। दिल्ली बीजेपी के आदेश गुप्ता ने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार नई आबकारी नीति के तहत पूरे शहर में शराब की दुकानें अवैध रूप से खोल रही है। 

 

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने क्या कहा?
आदेश गुप्ता ने कहा कि धार्मिक स्थलों या स्कूलों के आसपास शराब की दुकानों को नहीं खोलने दिया जाएगा। अगर नई जनविरोधी आबकारी नीति को वापस नहीं लिया गया तो पार्टी तीन जनवरी को पूरे शहर में 14 जगहों पर चक्का जाम करेगी। 

AP government launches new strategy to curb ID liquor, NDPL

आप सरकार पर बीजेपी का ट्वीट:
इस बीच दिल्ली बीजेपी ने ट्वीट किया, 'काश केजरीवाल दिल्ली के सीएम होते तो गली-गली में ठेके ना खुलते!'

नई आबकारी नीति पर नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा है कि दिल्ली सरकार की इस पॉलिसी से भ्रष्टाचार और क्राइम बढ़ेगा। दिल्ली सरकार को तुरंत नई आबकारी नीति को वापस लेना चाहिए। 


 


Comment As:

Comment (0)